Jitendra Pratap Singh

Community
आंखों में मंजिल थी, गिरे और संभलते रहे... हवाओं में कहां दम था, चिराग आंधियों में भी जलते रहे||